UPSC Civil Services Examination 2019 Result : संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) ने सिविल सेवा परीक्षा 2019 का फाइनल रिजल्ट जारी कर दिया है। परीक्षा में हरियाणा के सोनीपत जिले के रहने वाले प्रदीप सिंह ने टॉप किया है। दूसरे स्थान पर दिल्ली के जतिन किशोर और तीसरे स्थान पर यूपी के सुल्तानपुर की प्रतिभा वर्मा है। कुल 829 उम्मीदवारों का चयन किया गया है। इसमें 304 उम्मीदवार जनरल कैटेगरी से, 78 ईडब्ल्यूएस, 251 ओबीसी, 129 एससी और 67 एसटी कैटेगरी से हैं। परीक्षार्थियों के मार्क्स 15 दिन बाद जारी किए जाएंगे। 

यूपीएससी ने 182 उम्मीदवारों को रिजर्व लिस्ट में रखा है। इनमें 91 जनरल, 9 ईडब्ल्यूएस, 71 ओबीसी, 8 एससी, 3 एसटी कैटेगरी के हैं। 11 उम्मीदवार ऐसे हैं जिनका रिजल्ट होल्ड पर रखा गया है। 

टॉपरों की लिस्ट 
रैंक    नाम    
1     प्रदीप सिंह
2    जतिन किशोर
3    प्रतिभा वर्मा
4    हिमांशु जैन
5    जयदेव सी एस
6    विशाखा यादव
7    गणेश कुमार भास्कर
8    अभिषेक सारफ
9    रवि जैन
10    संजिता मोहपात्रा
11    नूपुर गोयल
12    अजय जैन
13    रौनक अग्रवाल
14    अनमोल जैन
15    भौंसले नेहा प्रकाश
16    गुंजन सिंह 
17    स्वाति शर्मा 
18    लविश ओर्डिया
19    श्रेष्ठा अनुपम
20    नेहा बनर्जी

प्रदीप सिंह ने सोनीपत से फोन पर न्यूज एजेंसी भाषा को बताया, ''यह एक सपने के साकार होने जैसा है । यह सुखद आश्चर्य है । मैं हमेशा आईएएस अधिकारी बनना चाहता था । मैं समाज के कमजोर वर्गों के लिये काम करना चाहूंगा। भारतीय राजस्व सेवा के 2019 बैच के अधिकारी 29 वर्षीय सिंह अभी फरीदाबाद में राष्ट्रीय सीमा शुल्क, अप्रत्यक्ष कर एवं नार्कोटिक्स अकादमी में पर्यवेक्षण पर हैं । उन्होंने कहा कि उनका जोर शिक्षा और कृषि क्षेत्र को बेहतर बनाने पर होगा क्योंकि वे भारतीय प्रशासनिक सेवा का हिस्सा बनेंगे । सिंह ने कहा, '' मैंने आईएएस के लिये प्रदेश कैडर के रूप में अपने गृह राज्य हरियाणा को चुना है। मुझे खुशी है कि मुझे अपने राज्य के लिये काम करने का अवसर मिलेगा ।  उन्होंने परीक्षा की तैयारी के लिये छुट्टी ली थी । 

यूपीएससी परीक्षा में दूसरा स्थान हासिल करने वाले जतिन किशोर भारतीय आर्थिक सेवा (आईईएस) के 2018 बैच के अधिकारी हैं और अभी ग्रामीण विकास मंत्रालय में सहायक निदेशक के पद पर हैं ।  उन्होंने न्यूज एजेंसी भाषा से कहा, ''सिविल सेवा परीक्षा के लिये यह मेरा दूसरा प्रयास था । मुझे प्रसन्नता है कि मुझे द्वितीय स्थान मिला।' 26 वर्षीय किशोर ने कहा कि शिक्षा और पर्यावरण उनके लिये मुख्य क्षेत्र होगा।'' 

वहीं, भारतीय राजस्व सेवा (आयकर) की अधिकारी और तीसरा स्थान हासिल करने वाली प्रतिभा वर्मा ने कहा कि वह बचपन से ही आईएएस अधिकारी बनना चाहती थी। उन्होंने कहा, ''किसी भी संकट के समय आईएएस अधिकारी जिस तरह सबसे पहले प्रतिक्रिया देते हैं, उससे मैं काफी प्रभावित रही । वे कठिन परिस्थिति में हमेशा अग्रिम मोर्चे पर रहते हैं । इसीलिए मैंने फिर परीक्षा की तैयारी करने का फैसला किया (आईआरएस में चयन होने के बाद)।'' वर्मा को यूपीएससी की 2018 की परीक्षा में 489वीं रैंक हासिल हुई थी। उन्होंने कहा कि वह महिला सशक्तिकरण और बच्चों से जुड़े विषयों और खासकर अपने गृह राज्य उत्तर प्रदेश में काम करना चाहूंगी। उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर की निवासी वर्मा ने कहा कि उनके माता पिता ने सिविल सेवा के लिये प्रेरित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी।

आपको बता दें कि यूपीएससी मुख्य परीक्षा में कुल 2304 उम्मीदवार सफल हुए थे। इनके लिए इंटरव्यू की प्रक्रिया 17 फरवरी, 2020 से शुरू हुई थी। लेकिन कोरोना लॉकडाउन के चलते मार्च में इंटरव्यू स्थगित कर दिए गए थे। इसके बाद इंटरव्यू 20 जुलाई से 30 जुलाई के बीच आयोजित किए गए। इसके लिए आयोग ने उम्मीदवारों को इंटरव्यू में आने-जाने के लिए विमान के किराए का भुगतान करने का फैसला किया। कोविड-19 के कारण ट्रेन सेवा पूरी तरह शुरू नहीं हो पाने के कारण यह फैसला किया गया थी। 

चयनित उम्मीदवारों को सरकार की ओर से उपलब्ध कराई वैकेंसी के आधार पर नियुक्ति दी जाएगी। वैकेंसी का ब्योरा इस प्रकार है -

अगर किसी भी उम्मीदवार को परीक्षा या भर्ती से जुड़ा कोई प्रश्न पूछना है तो वह यूपीएससी कैंपस परिसर में वर्किंग डेज पर सुबह 10 से शाम 5 बजे के बीच जाकर जानकारी हासिल कर सकता है। इसके अलावा सुबह 10 से शाम 5 बजे के बीच 23385271 / 23381125 / 23098543 पर फोन करके भी जानकारी हासिल की जा सकती है।

हर वर्ष IAS, IPS ऑफिसर बनने का ख्वाब संजोने वाले लाखों उम्मीदवार यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा देते हैं। इस परीक्षा को देश की सबसे चुनौतिपूर्ण प्रतियोगी परीक्षाओं में से एक माना जाता है। 

यूपीएससी सिविल सेवा के जरिए इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विसेज (आईएएस), भारतीय पुलिस सर्विसेज (आईपीएस) और भारतीय फॉरेन सर्विसेज (आईएफएस), रेलवे ग्रुप ए (इंडियन रेलवे अकाउंट्स सर्विस), इंडियन पोस्टल सर्विसेज, भारतीय डाक सेवा, इंडियन ट्रेड सर्विसेज सहित अन्य सेवाओं के लिए चयन किया जाता है।

यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा तीन चरणों -- प्रारंभिक, मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार-- में आयोजित की जाती है। मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार में प्रदर्शन के आधार पर फाइनल मेरिट लिस्ट जारी होती है।