UPPSC Ayurvedic Medical Officer Result 2020:  लॉकडाउन के बाद दफ्तर खुलते ही उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने लंबित परिणाम पर काम शुरू कर दिया है। इसी क्रम में सोमवार को पहले ही दिन आयुर्वेदिक चिकित्साधिकारियों का एक बड़ा परिणाम घोषित किया गया। प्रदेश के आयुर्वेदिक चिकित्सालयों में आयुर्वेदिक चिकित्साधिकारी के कुल 544 रिक्त पदों के लिए चयन किया जाना था लेकिन 521 पदों के लिए ही चयन हो सका। 23 पदों पर चयन नहीं हो सका। 

सचिव जगदीश ने बताया कि 544 पदों में 404 पद अनारक्षित थे जबकि 111 पद ओबीसी और 29 पद एसटी के लिए आरक्षित थे। इसके लिए इंटरव्यू 13 से 28 फरवरी तक सात मार्च को हुए थे। स्क्रीनिंग परीक्षा के बाद योग्य पाए गए 1288 अभ्यर्थियों को इंटरव्यू के लिए बुलाया गया था जबकि एक अभ्यर्थी को हाईकोर्ट के आदेश पर इंटरव्यू में शामिल किया गया था। इस प्रकार कुल 1289 अभ्यर्थियों में से 1041 इंटरव्यू में शामिल हुए थे। जिन 23 पदों पर चयन नहीं हो सका, उनमें से 22 एसटी के लिए आरक्षित हैं। एसटी के लिए कुल 29 पद आरक्षित थे, लेकिन इस श्रेणी के सात योग्य अभ्यर्थी ही मिल सके।

प्रदेश सरकार की ओर से 10 दिसंबर 2007 को जारी शासनादेश के अनुसार एसटी के लिए आरक्षित पदों के लिए पर्याप्त अभ्यर्थी उपलब्ध न होने की दशा में इन पदों पर एससी अभ्यर्थियों की नियुक्ति की जाती है लेकिन इस भर्ती में एससी का पद ही शामिल नहीं था इसलिए ऐसा नहीं किया जा सका और एसटी के 22 पद रिक्त रह गए। एक अभ्यर्थी का इंटरव्यू हाईकोर्ट के आदेश पर सात मार्च को करवाया गया था इसलिए हाईकोर्ट के आदेशानुसार एक पद का परिणाम घोषित नहीं किया गया है। आयोग के उप सचिव लखन लाल शिवहरे की ओर से जारी विज्ञप्ति में बताया गया है कि इस भर्ती में एसटी श्रेणी के एक अभ्यर्थी को इंटरव्यू में अनारक्षित श्रेणी के अभ्यर्थियों से ज्यादा अंक मिला है पर उसकी स्क्रीनिंग परीक्षा का प्राप्तांक अनारक्षित श्रेणी के अभ्यर्थियों के कट ऑफ अंक से कम होने के कारण इस अभ्यर्थी को एसटी के लिए रिक्त पदों के सापेक्ष ही सफल किया गया है। 
रिजल्ट का नोटिस