यूपी 69000 शिक्षक भर्ती के कटऑफ से संबंधित मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने फैसले को रिजर्व रख लिया है. फैसला आएगा कुछ दिन बाद.
UP 69000 Teachers Recruitment 2020: इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने उत्तर प्रदेश में 69000 शिक्षकों की भर्ती से संबंधित मामले की सुनवाई को आज समाप्त कर दिया और इससे संबंधित फैसले को अपने पास सुरक्षित रख लिया है. अब इससे संबंधित फैसला हाईकोर्ट लखनऊ बेंच द्वारा अगले कुछ दिनों में सुनाया जायेगा. फैसले के बाद उत्तर प्रदेश के प्राथमिक विद्यालयों में  69000 सहायक शिक्षकों की भर्ती की प्रक्रिया शुरू हो जायेगी.


क्या है मामला?
परीक्षा नियामक प्राधिकरण प्रयागराज ने उत्तर प्रदेश के प्राथिमक विद्यालयों में 69000 सहायक अध्यापकों की भर्ती के लिए 5 दिसंबर 2018 को एक ऑफिशियल नोटिफिकेशन जारी कर पात्र उम्मीदवारों से ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किया था. जिसके लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया 6 दिसंबर 2018 को शुरू हुई थी. आवेदन फॉर्म ऑनलाइन अप्लाई की अंतिम तिथि 20 दिसंबर 2018 थी. जबकि निर्धारित माध्यम से आवेदन शुल्क जमा करने की अंतिम तिथि 21 दिसंबर 2018 और ऑनलाइन आवेदन का प्रिंटआउट लेने की अंतिम तारीख 22 दिसंबर 2018 निर्धारित थी. इस परीक्षा के लिए 4,31,466 अभ्यर्थियों ने पंजीकरण करवाया था. लिखित परीक्षा 6 जनवरी 2019 को राज्य के 800 परीक्षा केन्द्रों पर आयोजित की गई. इस परीक्षा में 4,10,440 परीक्षार्थी शामिल हुए जबकि 21,026 परीक्षार्थियों ने परीक्षा छोड़ दी. अर्थात परीक्षा में 95.13 फीसदी परीक्षार्थी उपस्थित रहे


इस विज्ञापन में न्यूनतम कट ऑफ की बात तो की गई थी परन्तु कट ऑफ़ कितने प्रतिशत होगा. इसके निर्धारण की घोषणा इस नोटिफिकेशन में नहीं की गई थी. लिखित परीक्षा के अगले दिन परीक्षा नियामक प्राधिकरण द्वारा न्यूनतम कट ऑफ़ की घोषणा की गई.  इसके तहत सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों को 150 में 97 और आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को 150 में 90 अंक लाने होगे. अर्थात सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों को 65 फीसदी और आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को 60 फीसदी अंक पर पास किया जाएगा. इसी कट ऑफ़ को लेकर रिजवान अंसारी आदि परीक्षार्थियों ने हाईकोर्ट लखनऊ बेंच में रिट दायर की थी. जिसकी सुनवाई करने के बाद अब फैसला कोर्ट द्वारा सुरक्षित रख लिया गया है.


याद दिलाते चलें कि इससे पहले सितम्बर, 2018 में हुई 68,500 शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा में सामान्य वर्ग के लिए 45 व आरक्षित वर्ग के लिए 40 अंक पासिंग मार्क्स तय किये गये थे.