जेईई मेन्स अप्रैल 2020 एग्जाम की परीक्षा तारीखों के साथ ही इस परीक्षा के और भी कई नियम बदल गये हैं. परीक्षा देने वाले स्टूडेंट्स के लिये इन बदलावों के विषय में जानना बहुत जरूरी है.
JEE Mains April Exam 2020 Dates Changed: नेशनल टेस्टिंग एजेंसी द्वारा कंडक्ट कराये जाने वाले जेईई मेन्स अप्रैल 2020 एग्जाम की तारीखों में बदलाव हो गया है. पहले जेईई मेन्स अप्रैल परीक्षा 03 अप्रैल से 09 अप्रैल के मध्य आयोजित होनी थी. नये नियमों के अनुसार अब यह परीक्षा 05, 07, 09 और 11 अप्रैल 2020 को आयोजित की जाएगी. यहां यह बताना भी बहुत आवश्यक है कि जेईई मेन्स की अप्रैल परीक्षा के लिये रजिस्ट्रेशन प्रॉसेस 07 फरवरी से आरंभ हो चुका है जो 07 मार्च तक चलेगा. जिन उम्मीदवारों ने अभी तक आवेदन नहीं किया है, वे ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर एप्लीकेशन भर सकते हैं. इसके लिये दो वेबसाइट्स का इस्तेमाल किया जा सकता है जिनका पता है www.jeemain.nta.nic.in और www.nta.ac.in. जेईई मेन्स परीक्षा में हुए बाकी बदलाव इस प्रकार हैं.

वेबसाइट गयी है बदल –
जेईई मेन्स 2020 एग्जाम के कुछ बड़े बदलावों में से एक है जेईई का वेबसाइट एड्रेस बदल जाना. इस बात का भी ध्यान रखें कि इस मौके का फायदा उठाकर कई फेक वेबसाइट्स भी एक्टिव हो गयी हैं. इनसे बचकर रहें और सिर्फ जेईई की आधिकारिक वेबसाइट की सूचनाओं पर ही भरोसा करें.

पुराना वेबसाइट एड्रेस -  www.jeemain.nic.in

नया वेबसाइट एड्रेस – www.jeemain.nta.nic.in

परीक्षा प्रारूप गया बदल –
जेईई मेन्स एग्जाम का दूसरा बड़ा चेंज है परीक्षा के प्रारूप में बदलाव. अब मल्टीपल च्वॉइस क्वेश्चंस के साथ ही लांग आंसर्स भी आयेंगे. पर एमसीक्यू की तरह इन लांग क्वेश्चंस में कोई निगेटिव मार्किंग नहीं होगी.

पुराना परीक्षा प्रारूप -  केवल मल्टीपल च्वॉइस क्वेश्चंस आते थे

नया परीक्षा प्रारूप – लांग (4 अंक के) आंसर्स भी आयेंगे

जनवरी और अप्रैल अटेम्पट माने जायेंगे सिंग्ल अटेम्पट –
जेईई स्टूडेंट्स को साल में दो बार ही परीक्षा देने का अवसर देता है. जनवरी और अप्रैल में होने वाली जेईई मेन्स की परीक्षा क्योंकि एक ही वर्ष (2020) के अंदर आयोजित हो रही है इसलिये इन दोनों परीक्षाओं में बैठने के बावजूद इसे एक ही अटेम्पट माना जायेगा. दोनों परीक्षाओं के अंकों की तुलना करने के बाद जिस परीक्षा में ज्यादा अच्छे अंक आये होंगे, उसे ही मान्यता दी जाएगी. अप्रैल परीक्षा का परिणाम आने के बाद ही अंतिम निर्णय लिया जाएगा. हालांकि जो स्टूडेंट्स वर्ष 2019 में परीक्षा में बैठे हैं, उनका यह दूसरा अटेम्पट गिना जायेगा. यानी जनवरी और अप्रैल दोनों पेपर दीजिये, जिसमें परफॉर्मेंस बेहतर होगा, उसके आधार पर चयन होगा पर यह गिना जाएगा एक ही अटेम्पट.